Friday, November 5, 2010

...ताकि सनद रहें

विज्ञानवादी,बुद्दिवादी और तर्कवादी लोगो के लिए सूक्ष्म रुप मे आत्मा का अस्तित्व बहस का विषय हो सकता है लेकिन परामनोविज्ञान के शोध और अध्ययन यह समझने की कोशिस करते रहें है ऐसा क्या है कि बहुत से लोग अपने साथ ऐसी घटनाएं होने का दावा करते है जोकि अतिन्द्रिय किस्म की है। इसी विषय पर मेरा गैर अकादमिक किस्म का निजी शोध कार्य चल रहा है मै अभी योग वशिष्ट का अध्ययन कर रहा हूं इस विषय से योग वशिष्ट का गहरा ताल्लुक है लेकिन दुर्भाग्य से इस विषय के देश के जाने माने और अधिकृत विद्वान डा.बी.एल.आत्रेय जी हमारे बीच मे नही है। बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी मे दर्शन शास्त्र और मनोविज्ञान के प्रोफेसर रहें डा.भीखन लाल आत्रेय जी ने इस विषय पर गहनतम शोध किया था तथा कई बहुमूल्य ग्रंथ भी लिखे थे लेकिन संरक्षण के अभाव मे उनके लिखे ग्रंथ उपलब्ध नही हो पा रहे है मैने अपने एक विद्यार्थी को बी.एच.यू. के पुस्तकालय मे भी भेजा था लेकिन वहाँ से भी कुछ खास हाथ नही लगा है।

डा.आत्रेय जी पौत्र से मेरे सम्पर्क हुआ था वें भी ज्योतिष के बडे ज्ञाता है लेकिन रहते अज्ञातवास मे है मैने कई बार मिलने का प्रयास किया लेकिन सफल नही हुआ हूं देहरादून-मसूरी मार्ग पर वें रहते है।

इस ब्लाग पर नियमित लेखन न होने की एक वजह यह भी रही है कि मै कुछ साक्ष्य सम्मत और अपने अनुभव से अतिन्द्रीय किस्म के अनुभव आपके साथ बांटना चाह रहा था अभी मेरी शोध साधना बहुत ही शैशवकाल मे है सो जैसे ही कुछ अधिकृत ज्ञान मुझे होता है मै आपके साथ सांझा करुंगा ये वादा है मेरा।

जल्दी ही आपसे फिर मुलाकात होगी यदि आपके पास इस विषय से सम्बन्धी किसी भी किस्म की जानकारी है कृपया मेल के माध्यम से सूचित करने का कष्ट करें।

आभार सहित

डा.अजीत

7 comments:

  1. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए आपका आभार. आपका ब्लॉग दिनोदिन उन्नति की ओर अग्रसर हो, आपकी लेखन विधा प्रशंसनीय है. आप हमारे ब्लॉग पर भी अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "अनुसरण कर्ता" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    ReplyDelete
  2. kya zandar likhte hain ajeet sir
    daad dene hogi aap ke rachnaseelta ko
    thnx

    ReplyDelete
  3. आपका स्वागत है ...

    आवश्यक विषय है यद्यपि अधिकतर विद्वान इसकी उपेक्षा करते आये हैं !
    आपका आवाहन अगर लोग न सुन पाए तो आप तक अपनी बातें कैसे पंहुचायेंगे ? यह आवश्यक है कि लोग आपकी रुचियों को गंभीरता से लें तभी मदद आगे आएगी, यहाँ विद्वानों की कमी नहीं है ....

    आपको हाल में लिखा एक लिंक दे रहा हूँ उनमें दी टिप्पणियों में आपको समान रूचि के लोग मिलेंगे ...

    निस्संदेह वे विद्वान भी हैं शायद आपको कुछ फायदा हो सके !

    शुभकामनायें !

    http://satish-saxena.blogspot.in/2012/04/blog-post.html

    ReplyDelete
  4. विश्वास और अंधविश्वास जैसे विषयो पर मेरे प्रायोगिक अनुभवो को ब्लॉग में प्रकाशित किया मैंने.
    जिज्ञासु पाठक पढ़े -
    १-मेरे विचार : renikbafna.blogspot.com
    २- सत्य की खोज में /In Search of TRUTH : renikjain.blogspot.com
    -रेणिक बाफना
    (अगर मैं रोजी रोटी के फेर में न फंसा होता तो परामनोवैज्ञानिक खोजो में बहुत गहरे जा पाता, पर सांसारिक चक्कर ही ऐसा है , बहु साड़ी खोजे जो मैं कर पाता वह त्यागना पड़ा )

    ReplyDelete
  5. आप गुरुकुल कांगड़ी में हैं?

    ReplyDelete
  6. Kuch books ke namm btayen please taki main bhi padhai kar sakoon

    ReplyDelete
  7. main bhi parapsychology ki study karna chahta hon but books na milne se problum hai, plzz tell me regarding books.

    ReplyDelete